भगवान विष्णु के पूर्णअवतार, बालरूप श्री कृष्ण, | Starbanquet

भगवान विष्णु के पूर्णअवतार, बालरूप श्री कृष्ण,

Posted by Rahul Minhas on August 31, 2018 at 8:54 am filled under Uncategorized Category

भगवान विष्णु के पूर्णअवतार, बालरूप श्री कृष्ण,

पृथ्वीलोक पर, आपके मानवअवतार के जन्मदिन की बहुत बहुत शुभकामनायें 🌼🌸

कई दिनों से, मन ही मन आपको याद करते हुये, एक इच्छा पनप रही थी कि आपके बारे में कुछ लिखुँ, पर हिम्मत नहीं हो रही थी, लेकिन अब जन्माष्टमी के इस बहुत ही शुभ मौके पर, अब आपसे आज्ञा लेकर, शुरुआत तो कर रहा हूँ, आगे की अब आप ही जानो 🌼🌸

आपके जन्म से पहले ही, आपके मामा द्वारा, आपकी हत्या की साजिश हो चुकी थी, और मथुरा के कारागार में जन्म होते ही, काली अन्धेरी मध्य रात्री में, भारी बरसात की बीच आपको, अति तीव्रता से, पिता वासुदेव द्वारा, दूसरे सुरक्षित स्थान पर ले जाया गया, ऐसे अनोखे घटनाक्रम के मध्य आपका ठीक से मान सम्मान, प्यार भरा स्वागत, भी न हो सका, जैसा लाड-प्यार, एक नवजात बच्चे को, ऐसे मौके पर, हमेशा मिलता है । 🐥🐥

थोडा बडे हुये, तो गोकुल में, कँस मामा की साजिश के रूप में राक्षसी पूतना द्वारा आपकी हत्या का षडयन्त्र भी सामने आया, तथा बकासुर राक्षस द्वारा आपकी जान लेने की योजना भी काम न आई, साहस, बुद्धिमता और मुसीबत के समय निर्भय होकर निर्णय लेने की आपकी क्षमता से आप उन सबसे सकुशल बाहर निकल आये, ये सब गुण, आपको नन्दबाबा के अदभुत परवरिश और साहस के निरन्तर सँचार करते रहने कारण ही विरासत में मिले 🙏🏻

महाँभारत युद्ध से पहले आपने, राजा धृतराष्ट्र से मिलकर. उन्हें समझाकर, कोई बीच का रास्ता निकालते हुये, इस भयंकर युद्ध को टालने की, अपनी और से भरसक कोशिश की, लेकिन जब युद्ध टलने की संभावनायें पूरी तरह, निर्रथक सिद्ध हुईं, तब आपने युद्ध से ठीक पहले, रणभूमि के मध्य मे, सखा अर्जुन को, माध्यम बनाकर, एक सारथी रूप में, स्वधर्म का पालन करते हुये, कर्म योग, ज्ञान योग और भक्ति योग द्वारा, जीवन के भवसागर को पार करने की विधि भगवतगीता रूप में संसार को उपलब्ध करवाई 🌼🌸🙏🏻